रामचरितमानस के रचयिता तुलसीदास कौन है? क्या ये महर्षि वाल्मीकि का अवतार है!

तुलसीदास

तुलसीदास या गोस्वामी तुलसीदासजी भारत के एक प्रसिद्ध संत थे। उन्हें रामचरित मानस और दोहा के निर्माण के लिए जाना जाता है

कहा जाता है कि तुलसीदास ही महर्षि वाल्मीकि का एक अवतार थे। महर्षि वाल्मीकि ने संस्कृत में वाल्मीकि रामायण की रचना की है। जो कि आज संस्कृत भाषा लोकभाषा नही रही बल्कि शास्त्र भाषा बनकर रह गई। और केवल पंडितों की भाषा बनकर रह गई। इसलिए तुलसीदास ने जनभाषा हिन्दी में रामचरितमानस की रचना की ताकी सभी लोग समझ पाते हैं।

तुलसीदास का जन्म :

उत्तर प्रदेश के प्रयाग के पास चित्रकूट जिले में राजापुर नामक एक गाँव है, जिसमें आत्माराम दुबे नाम के एक प्रतिष्ठित सरयूपारीण ब्राह्मण रहते थे। उनकी पत्नी का नाम हुलसी था। तुलसीदासजी का जन्म विक्रम संवत 1554 के श्रावण शुक्ल सप्तमी के दिन अभुक्त मूल नक्षत्र में इस भाग्यशाली दंपत्ति के यहाँ हुआ था।

तुलसीदास का बचपन :

एक ओर भगवान शंकर की प्रेरणा थी। श्री अनंतानंदजी के प्रिय शिष्य श्री नरहरानंदजी, जो रामशैल में रहते थे, ने इस बच्चे को पाया और उसका नाम रामबोला रखा। वे उसे अयोध्या ले गए और शुक्रवार को संवत 1561 माघ शुक्ल पंचमी को यज्ञोपवीत-संस्कार किया। बिना सिखाए ही बालक रामबोला ने गायत्री-मंत्र का पाठ किया। यह देखकर हर कोई चकित रह गया। उसके बाद, नरहरि स्वामी ने वैष्णव धर्म के पांच संस्कारों को निभाया, राम मंत्र से रामबोला की शुरुआत की और उसे पढ़ाने के लिए अयोध्या में ले गए। बालक रामबोला की बुद्धि बहुत प्रखर थी । एक बार जब वह गुरुमुख से सुन लेते तो थे, तो वह इसे याद कर लेते थे। कुछ दिनों बाद, गुरु और शिष्य दोनों शुक्राक्षेत्र (सोरो) पहुंचे। वहाँ श्री नरहरिजी ने तुलसीदास को रामचरित का पाठ पढ़ाया। कुछ दिनों बाद वे काशी चले गए। काशी में शेषनातनजी के साथ रहते हुए, तुलसीदास ने पंद्रह वर्षों तक वेद-वेदांग का अध्ययन किया। यहाँ उन्हें अपने लोकगीतों की जानकारी हुई और उन्होंने अपने विद्यागुरु से आज्ञा ली और अपने वतन लौट आए। जब वह पहुंचे, तो उन्होंने पाया कि उनका परिवार नष्ट हो गया है। उन्होंने अपने माता-पिता को श्रद्धांजलि अर्पित की और भगवान राम की कहानी बताने के लिए वहां रुक गए।

तुलसीदास का गृहत्याग :

तुलसीदास ने संवत 1583 जेठ शुक्ल 13 गुरुवार को भारद्वाज गोत्र की ऐक स्पवती कन्या रत्नावली से शादी की और वह अपने नवविवाहित जोड़े के साथ खुशी से रहने लगे। एक बार उसकी पत्नी अपने भाई के साथ उसके घाट पर गई। बाद में तुलसीदासजी भी वहाँ पहुँचे। उसकी पत्नी उससे बहुत नफरत करती थी और कहने लगी: ‘अगर मेरे शरीर और खून में तुुुुुमहारा जीतना लगाव है, उनसे सिर्फ आधा ही लगाव भगवान मे होता, तो तुम्हारा जीवन सफल जाता।’ ये शब्द तुलसीदासजी के हृृदय से लग गया। वे एक पल के लिए भी नहीं रुके, तुरंत भागकर प्रयाग जा पहुँचे। वहां उन्होंने गृहस्थ का त्याग दिया और संन्यास ले लिया, फिर तुलसीदास तीर्थ यात्रा करते करते काशी आ पहुँचे। उन्होंने मानसरोवर के पास काकभुशुंडि का दर्शन किया।

श्रीराम का दर्शन :

काशी में तुलसीदासजी ने रामकथा को बताना शुरू किया। वहाँ उन्हें एक दिन एक भूत मिला, जिसने उन्हें हनुमानजी का पता दिया। जब हनुमानजी उनसे मिले, तो तुलसीदासजी ने उनसे श्रीरघुनाथजी के दर्शन करने की प्रार्थना की। हनुमानजी ने कहा, ‘रघुनाथजी आपको चित्रकूट में दर्शन देंगे’ इसलिए तुलसीदासजी चित्रकूट के लिए रवाना हुए।

जब वे चित्रकूट पहुँचे, तो उन्होंने रामघाट पर अपना आसन ग्रहण किया। एक दिन वे टहलने गए। रास्ते में उन्होंने श्रीराम को देखा। उन्होंने घोड़े पर दो बेहद सुंदर राजकुमारों को धनुष और तीर ले जाते हुए देखा। तुलसीदासजी उसे देखकर मोहित हो गए, लेकिन उसे पहचान नहीं पाए। बाद में जब हनुमानजी आए और उन्हें सभी अंतर समझाए, तो वे बहुत पछताने लगे। हनुमानजी ने उसे सांत्वना दी और कहा कि वह उसे सुबह फिर से देखेगा।

संवत 1607 के मौनी अमास के बुधवार को भगवान श्रीराम उनके समक्ष प्रकट हुए। उन्होंने बालक के रूप में तुलसीदासजी से कहा- “बाबा! हमें चंदन चढ़ाओ”। हनुमानजी ने सोचा, शायद इस बार भी वह गलती न करदे , इसलिए उन्होंने तोते का रूप धारण किया और यह दोहरा कहा:

” चित्रकूट घाट पर संत संतन की भीर। तुलसीदास चंदन घिसें तिलक करे रघुबीर। “

तुलसीदासजी उस अद्भुत छवि को देखकर शरीर की चेतना को भूल गए। भगवान ने अपने हाथ से चंदन ले लिया और इसे अपने और तुलसीदासजी के सिर पर लगाया और अंतर्धान हो गए।

संस्कृत में पद्य रचना :

वर्ष 1628 में उन्होंने हनुमान जी से आज्ञा ली और अयोध्या की ओर चलना शुरू किया। उन दिनों प्रयाग में माघ मेला लगता था। वे कुछ दिन वहां रहे। त्योहार के छह दिन बाद, एक बरगद के पेड़ के नीचे, उन्होंने भारद्वाज और याज्ञवल्क्य मुनि को देखा। उस समय भी वही कहानी हो रही थी, जो उन्होंने अपने गुरु से सुखक्षेत्र में सुनी थी। माघ मेला समाप्त होते ही तुलसीदास जी प्रयाग से वापस काशी आ गए और प्रह्लादघाट में एक ब्राह्मण के घर रुके। वहाँ रहते हुए कविता की शक्ति उनमें पनप गई और उन्होंने संस्कृत में छंद रचना शुरू कर दी। लेकिन जितने छंद उन्होंने दिन के दौरान रचे, वे सभी रात में गायब हो जाते थे। यह घटना हर दिन होती है। आठवें दिन तुलसीदास जी ने एक सपना देखा। भगवान शंकर ने उन्हें अपनी भाषा में कविता रचने का आदेश दिया। तुलसीदास जी की नींद में खलल पड़ा। वे उठ कर बैठ गए। उसी समय भगवान शिव और पार्वती उनके सामने प्रकट हुए। तुलसीदास जी ने उन्हें प्रणाम किया। इस पर प्रसन्न होकर शिव जी ने कहा- “तुम जाकर अयोध्या में रहो और हिंदी में काव्य रचना करो। मेरे आशीर्वाद से तुम्हारी कविता सामवेद की तरह फलदायी होगी।” इतना कहने के बाद गौरीशंकर गायब हो गया। तुलसीदास जी ने उनकी आज्ञा का पालन किया और काशी से सीधे अयोध्या चले गए।

रामचरितमानस की रचना :

संवत्‌ १६३१ का प्रारम्भ हुआ। दैवयोग से उस वर्ष रामनवमी के दिन वैसा ही योग आया जैसा त्रेतायुग में राम-जन्म के दिन था। उस दिन प्रातःकाल तुलसीदास जी ने श्रीरामचरितमानस की रचना प्रारम्भ की। दो वर्ष, सात महीने और छ्ब्बीस दिन में यह अद्भुत ग्रन्थ सम्पन्न हुआ। संवत्‌ १६३३ के मार्गशीर्ष शुक्लपक्ष में राम-विवाह के दिन सातों काण्ड पूर्ण हो गये।

मृत्यु:

तुलसीदास जी जब काशी के विख्यात् घाट असीघाट पर रहने लगे तो एक रात कलियुग मूर्त रूप धारण कर उनके पास आया और उन्हें पीड़ा पहुँचाने लगा। तुलसीदास जी ने उसी समय हनुमान जी का ध्यान किया। हनुमान जी ने साक्षात् प्रकट होकर उन्हें प्रार्थना के पद रचने को कहा, इसके पश्चात् उन्होंने अपनी अन्तिम कृति विनय-पत्रिका लिखी और उसे भगवान के चरणों में समर्पित कर दिया। श्रीराम जी ने उस पर स्वयं अपने हस्ताक्षर कर दिये और तुलसीदास जी को निर्भय कर दिया।

संवत्‌ १६८० में श्रावण कृष्ण तृतीया शनिवार को तुलसीदास जी ने “राम-राम” कहते हुए अपना शरीर परित्याग किया।

तुलसीदास

October 2021
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *